Tuesday, January 31, 2023
HomeNewsबिल गेट्स का सम्पूर्ण जीवन परिचय | Bill Gates Complete Biography In...

बिल गेट्स का सम्पूर्ण जीवन परिचय | Bill Gates Complete Biography In Hindi

Bill Gates Biography In Hindi – आज Bill Gates धरती पर मौजूद दुनिया के सबसे आमिर आदमी है। इनकी मौजूदा आय की बात करें तो इनकी एक मिनट की कमाई लगभग 1500000 भारतीय रूपये के हिसाब से है।

बिल गेट्स अमेरिका के एक बहुत बड़े उद्योगपति है माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के को-फाउंडर हैं। दुनिया में सॉफ्टवेयर बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी है माइक्रोसॉफ्ट जिसकी शुरुआत साल 1975 में हुई थी। Bill Gates ने अपने Software program से दुनिया भर में कई रिकॉर्ड कायम किये और बहुत सी संस्थाओं को दान भी दिए हैं।

साल 1987 के बाद से लगातार बिल गेट्स का नाम दुनिया के सबसे अमीर आदमी की लिस्ट में आता रहा है। सबसे पहले 1987 में बिल गेट्स को दुनिया के अमीर आदमियों की लिस्ट में शामिल किया गया था और इसके बाद 1995 से 2007 तक लगातार वे दुनिया के सबसे अमीर आदमी बने रहे।

सबसे अमीर आदमी Bill Gates Biography In Hindi

2007 में फिर से इस लिस्ट में शामिल हो गए थे, जो 2014 तक बने रहे। अभी अगस्त 2016 में Bill Gates फिर से दुनिया के सबसे अमीर आदमी बन गए है, जिनकी आय 90 बिलियन डॉलर है। माना जा रहा है की साल 2014 की अपेक्षा इनकी आय 15 बिलियन डॉलर बढ़ी है। आज इस पोस्ट में हम दुनिया के सबसे अमीर आदमी के इतिहास (Bill Gates Biography In Hindi) के बारे में जानेंगे।

बिल गेट्स के परिवार और अन्य जानकारी

[table id=11 /]

बिल गेट्स का प्रारंभिक जीवन – Early Life of Bill Gates

Bill Gates का जन्म अमेरिका के शहर सिएटल वाशिंगटन में अट्ठाइस अक्टूबर उन्नीस सौ पच्चपन में हुआ था उनके पिता एक प्रसिद्द वकील थे। उनका नाम विलियम H गेट्स था। और उनकी माता जी बैंकिंग क्षेत्र में कार्यरत थी उनकी माता का नाम मैरी मैक्सवेल गेट्स प्रथम था।

उनके परिवार की गिनती एक अमीर परिवार में होती थी। उनके पिता एक प्रसिद्द वकील थे और उनकी माता जी बैंक के निदेशक मंडल में सेवारत थी। इसके आलावा उनके पिता एक नेशनल बैंक एक अध्यक्ष भी थे। बिल गेट्स की दो बहने थी जिनका नाम क्रिस्टी और लिब्बी था। उनके माता पिता ने उनके करियर के लिए पहले से ही सोच रखा था वो चाहते थे की बिल गेट्स कानून की पढाई करे और एक अच्छा लॉयर बने। लेकिन बिल गेट्स का दिमाग टेक्नोलॉजी में जयादा चलता था। और उनकी रूचि भी इसी फील्ड में ज्यादा थी।

Technical Education

जब वह आठवीं कक्षा में थे तो उनके स्कूल ने ASR-33 teletyping terminal and a computer program ख़रीदा था।

और बिल गेट्स को शुरुआत से ही इन सब में रूचि थी। और यही से उनके करियर की शुरुआत भी हुई। कंप्यूटर की दुनिया में उन्होंने अपना पहला प्रोग्राम लिखा जिसका नाम टिक टैक टो था और ये एक प्रकार का गेमिंग प्रोग्राम था। इसके बाद बिल गेट्स की रूचि इस और अधिक बढ़ती गई और उन्होंने बारीकी से इसके बारे में जानना शुरू कर दिया था।

और पढ़े -:

विनोद खन्ना का जीवन परिचय

Bill Gates को टेक्नोलॉजी से जुडी इन चीजों में जयादा रूचि होने की वजह से उन्होंने कंप्यूटर पर हाथ आजमाने शुरू कर दिए और कंप्यूटर प्रोग्राम के बारे में जानकारी हासिल की। और कुछ मशीन कोड भी सीखे। जिनमे फोर्टन भाषा और अन्य कोड शामिल थे। इसके बाद बिल गेट्स ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले लिया और वहा उन्होंने मैथ और कंप्यूटर विज्ञान जैसे विषयो में पढाई की। लेकिन उन्होंने हारवर्ड की पढाई बीच में ही ड्राप कर दी और कुछ नया करने की कोशिस की और आज दुनिया में उनका नाम बोलता है। उन्होंने एक कंपनी की शुरुआत की और उस कंपनी को आज इस मुकाम पर पहुंचने में बिल गेट्स ने दिनरात मेहनत की थी।

और पढ़े -:

Narco Test क्या है और कैसे किया जाता है?

बिल गेट्स की शादी, परिवार, मित्र

बिल गेट्स की वाइफ का नाम मेलिंडा है। उनका विवाह टेक्सास में एक जून उन्नीस सौ चौरानवे में हुआ था। उनकी शादी के बाद उनके तीन बच्चे हुए थे। जिनका नाम रोरी जॉन गेट्स , फोएबे अदेले गेट्स और जैनिफर कैथेराइन गेट्स है। बिल गेट्स के मित्र का नाम Paul एलन है। जो उनके पार्टनर और करीबी मित्र भी है। उनके साथ स्कूल में पढ़े है।

माता पिता के बारे में आप ऊपर पढ़ ही चुके है। बिल गेट्स वाशिंगटन के मेडिना में रहते है। वहा उनका एक एलिसन घर है। जिसकी कीमत करीब बारह सौ पच्चास लाख डॉलर है। बिल गेट्स पुरानी वस्तुओ को भी खरीदने का शौक रखते है।

उनके निजी संग्रह में एक महंगा लियोनार्डो द विन्ची का एक लिखित कोर्डेक्स लेटर भी है जिसकी कीमत तीन सौ आठ डॉलर है और ये उन्होंने उन्नीस सौ चौरानवे में खरीदा था। बिल गेट्स उन्नीस सौ तिरानवे से लेकर दो हजार सात तक लगातार फ़ोर्ब्स की सूचि में नंबर एक पर रहे है।

और पढ़े -:

योगगुरु बाबा रामदेव कौन है? 

माइक्रोसॉफ्ट की स्थापना

माइक्रो सॉफ्ट दुनिया की एक जानी मानी कंपनी है ये कंप्यूटर टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में काम करती है। और दुनिया की सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी है। इस कम्पनी की बहुत सी सिस्टर कंपनी है और इसके प्लांट दुनिया भर में फैले हुए है। और इस कंपनी में सत्तर हजार से ज्यादा काम करते है।और लगभग इस कंपनी का बिज़नेस 45 बिलियन डॉलर का है।

इस कंपनी का हैडकवाटर वाशिंगटन में है। और इस कंपनी की शुरुवात बिल गेट्स और पाल एलेन ने चार अप्रेल उन्नीस सौ पचत्तर में की थी। इसकी शुरुवात altair 8800 और ट्रांसलेशन सर्विस को बनाने और बेचने के लिए की गई थी बाद में ये सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी बन गई।

IBM के साथ साझेदारी

 

और पढ़े -:

आम्रपाली दुबे का सम्पूर्ण परिचय

आईबीएम एक कंप्यूटर बनाने वाली कंपनी है जो कंप्यूटर कॉम्पोनेन्ट बनाती है। लेकिन सॉफ्टवेयर नहीं बनाती है।

इसलिए आईबीएम कम्पनी ने उन्नीस सौ अस्सी में माइक्रो सॉफ्ट कंपनी से संपर्क किया था

और अपने कंप्यूटर के लिए सॉफ्टवेयर बनाने की डील की थी

IBM ने अपने कंप्यूटर के लिए ट्रांसलेशन सॉफ्टवेयर और अन्य सॉफ्टवेयर बनाने के लिए माइक्रो सॉफ्ट कंपनी से बात की थी।

आईबीएम कंपनी के अधिकारियो ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी से अनुरोध किया था

की उनकी कम्पनी उनके लिए एक बेसिक इंटरप्रेटर बनाये जिसका इस्तेमाल वो अपने कंप्यूटर कर सकते है।

IBM Company

आईबीएम कंपनी को अपने कंप्यूटर के लिए एक ऑपरेटर सिस्टम की जरुरत थी जो सिर्फ उस समय माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ही बना सकती थी। Bill Gates ने आईबीएम को व्यापक रूप में प्रयोग हो सकने वाले डिजिटल रिसर्च सिस्टम के बारे में बताया। लेकिन ये करार पूरा नहीं हो पाया और आईबीएम इस करार पर असहमत था।

Operating system

लेकिन इसके बाद बिल गेट्स ने एक कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम 86 DOS का प्रस्ताव आईबीएम के सामने रखा था

जो की सीएटीएल कंप्यूटर के हार्डवेयर से मिलता जुलता बनाया गया था।

इसके लिए माइक्रोसॉफ्ट ने SCP कंपनी के साथ एक समझौता किया

जिसमे इसका लाइसेंस माइक्रोसॉफ्ट के पास रहेगा हमेशा।

और इसके बाद कंपनी ने आईबीएम को अस्सी हजार डॉलर में PC DOSS ऑपरेटिंग सिस्टम उपलब्ध करवाया।

और आईबीएम कंपनी को कहा गया की इस ऑपरेटिंग सिस्टम पर एकाधिकार बनाये रखे

ताकि मार्किट में इसकी नक़ल नहीं बनाई जा सके।

इस MS-DOSS ऑपरेटिंग सिस्टम की बिक्री ने माइक्रोसॉफ्ट को मार्किट में एक बड़े खिलाडी के रूप में स्थापित कर दिया था।

विंडोज

इसके बाद जून 25 1981 में Bill Gates और मनदीप वर्मा की देखरेख में माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी का फिर से पुनर्गठन हुआ और बिल गेट्स को दोबारा से माइक्रोसॉफ्ट का चेयरमैन बनाया गया। और माइक्रो सॉफ्ट कंपनी ने 20 नवंबर 1985 में विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम को मार्किट में उतारा। और आइबीएम कंपनी के साथ विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम के अलग अलग वर्जन निकालने का अनुबंध किया। इसके बाद आईबीएम और माइक्रोसॉफ्ट की साझेदारी खत्म हो गई और माइक्रोसॉफ्ट ने खुद विंडोज NT कार्नेल को विकसित किया।

 

और पढ़े -:

मुकेश अंबानी का जीवन परिचय

बिल गेट्स का निजी जीवन

बिल गेट्स का विवाह फ़्रांसिसी मेलिंडा से हुआ था उनके तीन बच्चे है। बिल गेट्स जहा रहते है वो घर उन्होंने नीलामी में ख़रीदा था। जिसकी कीमत 308 लाख डॉलर है। और इस घर में विशाल संघ्रालय है। बिल गेट्स लगातार 1993 से 2007 तक अमीरो की सूचि में नंबर एक पर रह चुके है। लेकिन 2000 में डॉट-कॉम बुलबुले के फटने से माइक्रोसॉफ्ट के शेयर में गिरावट आ गई थी और उनकी सम्पति में भी गिरावट आई और इसके बाद उनके अरबो रूपये दान करने से भी उनकी प्रॉपर्टी में कमी आई थी

जिसकी वजह से उनका नम्बर एक से स्थान निचे चला गया था। 2004 में बिल गेट्स बर्कशायर हैथवे कंपनी में निदेशक बने थे जो की उनके मित्र की कम्पनी थी। बिल गेट्स चैरिटी में बहुत अधिक दान करते है। उनका गेट्स फाउंडेशन निशुल्क लोगो की सहायता करता है। ये चैरिटी एग्रीकल्चर , मेडिकल , और बीमारियों की दवा के रिसर्च में पैसे खर्च करता है। बिल गेट्स ने पंद्रह जून दो हजार छह में घोसणा की थी की वो अब माइक्रोसॉफ्ट में सिर्फ अंशकालिक भूमिका ही निभाएंगे।

और अपने चैरिटी को संभालेंगे। उनके इस निर्णय से उनको बुफे पुरस्कार भी दिया गया था।

Bill Gates द्वारा लिखित पुस्तक

बिल गेट्स ने आगे की योजना और बिजनेस @ द स्पीड और थॉट नामक दो पुस्तके लिखी थी।

आगे की योजना बुक में बिल गेट्स ने भविष्य में होने वाली घटनाओ का वर्णन किया है

और क्या क्या परिवर्तन हो सकते है। इसके बारे में लिखा है।
बिजनेस @ द स्पीड ऑफ़ थॉट पुस्तक 1999 में परकासित हुई थी।

और बिल गेट्स ने इस पुस्तक में डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर के बारे में लिखा है।

बिल गेट्स के बारे में अन्य जानकारिया।

Bill Gates को टाइम पत्रिका ने उन सौ लोगो की सूचि में रखा है जिन्होंने बीसवीं शताब्दी को सबसे जयादा प्रभावित किया है 1999 में, गेट्स ने कहान्यूयॉर्क इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजीका राष्ट्रपति पद प्राप्त। गेट्स को 2000 मेंन्येनरोड बिजनेस यूनिवर्सिटिट , ब्रेउकेलेन, द नीदरलैंड्स से मानद Dret की उपाधि प्राप्त हुई है ; केटीएच रॉयल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, स्टॉकहोम, स्वीडन, 20002 में; 2004 मेंवासेदा विश्वविद्यालय, टोक्यो, जापान; अप्रैल 2007 में,सिंघुआ विश्वविद्यालय, बीजिंग, चीन और जून 2009 में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय।

उन्हें मेंपेकिंग विश्वविद्यालय का मानद ट्रस्टी भी बनाया गया।

बिल गेट्स को मिले अवार्ड्स।

[table id=12 /]

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments